नवका- पुरनका लेख सर्च करु...

बिजली संकट सं बेहाल बिहार

बिहार मे बिजली संकट एकदम सं गहरा गेल अछि. एक तं भीषण गरमी... दोसर लाइन नहि. लोक सभ पसीने-पसीने भेल छथिन्ह.

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार सेहो केंद्र के आगां परेशान छथिन्ह. केन्द्र सं जे बिजली के कोटा तय अछि ओकरा हिसाब सं बिहार के बिजली नहि देल जा रहल अछि.

एहि प्रचंड गरमी मे बिजली के मांग अछि करीब
3 हजार मेगावाट. मुदा केंद्र के तरफ से मिल रहल अछि मात्र हजार...ग्यारह सय मेगावाट बिजली.

कोढ़ मे खाज ई जे बिहार सरकार के एहि हजार... ग्यारह सय मेगावाट बिजली मे सं इमरजेंसी सेवा के सेहो बिजली देबय पड़ैत अछि.

रेलवे...डिफेंस...नेपाल के करीब चारि सय मेगावाट बिजली चलि जाएत अछि. बचैत अछि 6 सं 7 सय मेगावाट बिजली.

आब सोचिऔ कहां तीन हजार मेगावाट के जरूरत आओर मिल रहल अछि आओर असल मे मिल रहल अछि सिर्फ 6...7 सय मेगावाट बिजली. एहि सं कि होएत... कि फोरन पड़त !

नीतीश जी जखन केंद्र सं कोटा बढ़ाबय लेल कहलखिन्ह त 80 मेगावाट बिजली बढ़ा देल गेल. मुदा एहि सं कि होएत. बढएला के संग बढ़ाएल बिजली मिलनाय सेहो जरूरी छै ना?

अगर बिहार के जतेक कोटा अछि ओतेको बिजली मिलत तं बिहार के लोक के आधा सं बेसि परेशानी दूर भ जाएत. मुदा केंद्र के कांग्रेसी...यूपीए सरकार के बिहार के कोनो फिक्र होए तखन नहि?

कांग्रेस के बिहार के सुधि सिर्फ चुनाव के समय मे लगैत अछि. सिर्फ भाषणबाजी करताह कांग्रेसी नेता सभ. एहि बेर तं कांग्रेसी नेता सभ के सफाया भए गेल छनि आगां साख बचाबय चाहय छथिन्ह तं पार्टी पॉलिटिक्स छोड़ि केंद्र पर बिजली के लेल दबाव बनयबाक चाही.


पिछला दिन एनडीए के एमपी सभ प्रधानमंत्री सं मिलल छलखिन्ह. बिजली पर चर्चा भेल. बिहार के कोटा बढ़ाबय... बेसि बिजली देबय के मांग कएल गेल.

मुदा मनमोहन सिंह जी सेहो एकदम सं लाचारे लागैत छथिन्ह. बिहार के नाम पर हिनका सभके कि भ जाए छैनि से नहि जानय.

पहिने एहन भेल छल जे अरुणाचल प्रदेश मे जे पनबिजली इकाई लगि रहल अछि ओहि मे सं बिहार के 6 सय मेगावाट बिजली देबय के बात कहल गेल... मुदा आब ओहि मे सेहो कटौती भ गेल अछि.

एम्हर बीच-बीच मे बरौनी... कांटी थर्मल पावर सं बिजली उत्पादन के ठप होए सं सेहो हाल खराब भ जाएत अछि.

बिहार सरकार के एकटा प्रोजेक्ट अछि डागमारा बिजली प्रोजेक्ट. मुदा एहि मे सेहो नेपाली पेंच फंसि गेल अछि. आब ई जतय बनय वाला छल ओहि सं करीब दस किलोमीटर हटि क बनत.

नीतीश जी जतेक उत्साह के संग दोबारा मुख्यमंत्री बनलाह...बिजली संकट हुनकर सभ कएल-धएल पर पानि फेर रहल अछि. लोक के गुस्सा बढ़ि रहल अछि.

राज् भरि मे धरना-प्रदर्शन भ रहल अछि. लोक के जीनाय मुश्किल भेल अछि. एहन मे सभ पार्टी के एमएलए... एमपी के केंद्र सरकार के पक्षपात पूर्ण रवैया के विरोध करबाक चाही.

ई पार्टी के मामला नहि अछि बिहार के अधिकार के मामला अछि. लोक के जेना होए...केंद्र सरकार के हुड़कयबाक चाही.

नहि होए तं सभ सांसद के दिल्ली मे अन्ना हजारे जकां अनशन पर बैसि जएबाक चाही. एहि सं केंद्र सरकार के सेहो किरकिरी होएत आओर दुनिया बिहार के परेशानी सेहो जानत.

मुदा सवाल अछि जे एहि गरमी मे एमपी साहेब सभ अपन एयरकंडीशन कमरा के छोड़ि धरना-प्रदर्शन लेल आगां अएताह? आम लोक के फिक्र ककरा अछि?

click here

Share/Save/Bookmark

click here

हमर ईमेल:-info@hellomithilaa.com
Deal a Day   I   Go Jiyo   I   HT Campus   I   Times Jobs.com   I   SNAP DEAL

No comments:

Post a Comment

अहांक विचार/सुझाव...