नवका- पुरनका लेख सर्च करु...

हमर विआह -7

पार्टी मे मौजूद सभ लोक एक दोसरा के मुंह ताकए लागलखिन्ह. हुनका सभ के किछ फुराए नहि छलन्हि कि ई कि भ रहल अछि. खुसुर-पुसुर शुरू भ गेल. कहां त हवा लागल छल जे श्वेताक लेल ई लड़का देखल जा रहल छै आओर ई त !

एम्हर अल्का के खुशी के कोनो ठिकान नहि छल. मुदा जखन हुनका ई भान भेलैन जे ओ पार्टी मे छथीह त अपना के संभारैत...हमरा अपन पांज सं मुक्त करैत श्वेता के कहलीह...जानए छी ! हितेन कॉलेज केर जमाना के हमर बेस्ट फ्रेंड छथिन्ह.
जखन अहांक रिश्ता केर गप के बारे मे पता चलल त ई भेल रहल जे इहो होताह...मुदा हंड्रेड परसेंट श्योर नहि छलहुं. किएक त कॉलेज के बाद हिनका सं एकदम सं कटि गेल छलहुं...आओर हम एहि बारे मे पूछताछ सेहो नहि कएलौं.

अल्का हमरा आओर श्वेता के पकड़ि राजीव जी के पास ल गेलीह आओर कहलीह...भैया जानए छी. हम सभ एकहि कॉलेज मे छलहुं. कॉलेज मे हमर सभक अलगे धाक रहए. आओर हिनकर तं पूछबे नहि करु. पढ़ाई मे ई हमर खूब हेल्प करय छलाह.
एकटा आओर गप ई जे लोक सभ अपन गाम-घर सं बाहर निकललाह के बाद अपन मिथिला... अपन गाम -घर के एकदम सं भूलि जाए छथिन्ह. मुदा ई अतए अपन मैथिल छात्र सभ के एकजुट रखने छलाह.

एकटा इहे छलखिन्ह जिनका पर हम सभ आंखि मुनि कs भरोस करए छलौं. हिनका बिना हमर सभक कोनो काज नहि होए छल. पढ़ाई के संग खूब मस्ती सेहो करय छलहुं हम सभ. कॉलेजक बाते किछ आओर होए छै.
 अल्का बोलैत जा रहल छलीह आओर हम सभ सुनि रहल छलौं. श्वेता अचरज के भाव सं कखनो हमर त कखनो अल्का दीदी के देखैत जा रहल छलीह.

एम्हर शेखर लाल के सेहे हाल. शेखर के सेहो नहि बुझा रहल छलन्हि जे ई अएलाह श्वेता के देखए... बीच मे कतए सं बड़ बहिन टपकि अएलीह. अएलीहे नहि भरि पांजि भरि क अपन खुशी के इजहार कएलीह.
शेखर हमरा पकड़ि एक कात ल गेलाह. कहलाह,"ई कि भ रहल छै... हमरा त किछ समझिए मे नहि आ रहल अछि." हम शेखर के कहलिएन्ह जे पैघ कहानी छै... बाद मे कहबह. अखन बस एतेक समझि लs जे हम सभ संगे पढ़ए छलहुं एहिठाम आओर ओ हमरा सं प्यार करय छलीह.

लोक सभ धीरे-धीरे विदा भ रहल छलखिन्ह. हमहुं राजीव जी सं कहलिएन्हि जे आब आज्ञा देल जाउ. ओ पार्टी मे अएबाक लेल आभार जतएलाह. विदा होए सं पहिने एक बेर फेर सं श्वेता जीके विश कएलौं.
राजीव जी...श्वेता आओर अल्का बाहर तक छोड़य अएलाह. अल्का कहलीह कि यौं अखनो विआह के लेल मन डोलल कि नहि? हम जवाब देलिएन्हि जे ई त मां-बाबूजी पर निर्भर करय छनि. ओ जे चाहथिन्ह सेहे होएत.
Share/Save/Bookmark 




No comments:

Post a Comment

अहांक विचार/सुझाव...