नवका- पुरनका लेख सर्च करु...

भारी नहि पड़ि जाए 5 करोड़ रुपया...

बिहार मे मानसून जोर पकड़ि रहल अछि. बाढ़िक आशंका के देखैत लोक सभ तैयारी में लगि गेलाह. अनाज के संग-संग चूड़ा...चना...तेल...माचिस.. मोमबत्ती... पोलिथीन जमा करय में लागि गेलाह. कोसी मे आएल बाढ़ि लोक के दिल-दिमाग सं अखन धरि नहि उतरल अछि. एहन मे अगर एहि बेर बाढ़ि आबैत अछि आओर ओहि सं बेसि नुकसान होएत अछि तं लोक मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के कहिओ माफ नहि करि पएथिन्ह.
कोसी इलाका के कई लोक सं गप भेल... सभ गोटे के नीतीश जीक पांच करोड़ रुपया लौटेनाए बेजाय लगलन्हि. सभहक कहनाय छलन्हि जे ई तं विपत्ति के समय कएल गेल मदद छल. एकरा लौटा कs ओ नीक नहि कएलाह. पैसा तखन लौटेलाह जखन कि अखनो कतेक लोक एहन छथिन्ह जिनका खाए-पीबय के कोनो आसरा नहि छनि. बाढ़ि सं एहन तबाह भेलाह जे अखन धरि उबरि नहि पएलाह.
नीतीश जी केतबो कहथिन्ह... केतबो मदद करथिन्ह... लोक सभके जे जिनगी भरक जमा-पूंजी... घर-द्वार... दलान... माल-मवेशी बहि गेल छनि ओ केना भूलथिन्ह. एहन मे ई काज तं जख्म के कुरेदनाइए अछि. एहन मे एहि बेर अगर बाढ़ि तबाही मचौलक तं बाहरक लोक मदद के लेल आगां आबय सं झिझकत. मदद के लेल हाथ बढ़ाबय सं पहिने पांच बेर सोचत. फेर नीतीशजी कोना मैनेज करताह?
मानसून के बाद दुर्गापूजा-दीपावली के आसपास चुनाव सेहो भs सकैत अछि. अगर बाढ़िक बाद लोक के नीक सं मदद नहि भेटलन्हि तं एकर नतीजा नीतीशजी के भुगतय पड़तन्हि. सरकार के तरफ सं तं कहल जा रहल अछि जे बाढ़ि के लs कs प्रशासन पूरा तैयार अछि. ओ तं समय अएला पर पता चलत. मुदा नीतीशजी भगवान सं प्रार्थना करथुन्ह जे एहि बेर बाढिक तबाही कम सं कम होए...आओर जतय लोक परेशानी मे होएताह ओतए जल्दी मदद पहुंचय...नहि तं ई पांच करोड़ लौटेनाए भारी पड़ि जएतन्हि.
Share/Save/Bookmark
हमर ईमेल:-hellomithilaa@gmail.com



No comments:

Post a Comment

अहांक विचार/सुझाव...