नवका- पुरनका लेख सर्च करु...

ई कि भs रहल अछि देश मे...

महाराष्ट्र सं उठल आगि कर्नाटक तक पहुंचि गेल. महाराष्ट्र मे जे उत्तर भारतीय...खास कs बिहार के लोक के निशाना बनाबय के सिलसिला शुरू भेल अगर ओकरा रोकल नहि गेल त ई पूरा देश मे फैलि सकैत अछि.  देश के एकता-अखंडता के लेल ई एकटा बड़का खतरा अछि.  सरकार के एकरा गंभीरता सं लैत तुरंत कार्रवाई करबाक चाही.  अगर राज ठाकरे के खिलाफ तखने कांग्रेस सरकार सख्त कार्रवाई कएने रहैत त आई ई दिन देखय लेल नहि मिलत.  कांग्रेस ओना एहि बेर फेर लोक सभा चुनाव जीत गेल अछि मुदा हर मुद्दा पर सरकार के स्थिति बड़ लचर रहल अछि.  चाहे ओ विदेश मे भारतीय छात्र के खिलाफ अभियान होए आ देश मे उत्तर भारतीय के खिलाफ.  सरकार के रुख ओहे लुंज-पुंज.
 रवि दिन उत्तर भारत सं किछ छात्र रेलवे के टिकट कलेक्टर वाला परीक्षा देबय कर्नाटक गेल छलाह.  मुदा परीक्षा देबय काल कन्नड़ रक्षा वैदिके के किछ कार्यकर्ता आबि छात्र सभ पर हमला बोलि देलक. मारलक-पिटलक आओर परीक्षा के कॉपी... उत्तर पुस्तिका के फाड़ि देलक.  मारि-पीट मे कइटा छात्र के चोट आएल अछि आओर घायल सेहो भs गेलाह.  तोड़-फोड़ सेहो कएल गेल.  कार्यकर्ता उत्तर भारतीय ...खासकर बिहार से आएल विद्यार्थी के चुनि-चुनि कs पिटलक.  बिहारी कहि अपमानजनक बात कहल गेल.
राज ठाकरे के महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के तरह कन्नड़ रक्षा वैदिके सेहो राज्य मे होए वाला परीक्षा मे कन्नड़ लोक के प्राथमिकता देबय के मांग करि रहल अछि.  संगठन के साफ कहनाय अछि जे राज्य मे होए वाला परीक्षा मे उत्तर भारतीय के कोनो जगह नहि मिलबाक चाही.
हमला कर्नाटक ते दू शहर बंगलूरु आओर मैसूर मे कएल गेल.  ओना पुलिस हमला करय वाला किछ छात्र के गिरफ्तार कएलक अछि.  कार्यकर्ता के आरोप छल जे परीक्षा देबय वाला चारि सय छात्र मे कन्नड़ बोलय वाला सिर्फ 28 टा छात्र छल.  औ बाउ... अगर परीक्षा के फॉर्मे नहि भरबय त परीक्षा केना देबय...  पढ़ाई करय काल...  फॉर्म भरय काल सुतल रहब आओर जखन दोसर कोई फॉर्म भरि...  तैयारी करि पास होएत त हो-हल्ला करबय...  ई त नीक बात नहि न.  टिकट कलेक्टर के ई परीक्षा दक्षिण पश्चिम रेलवे के छल आओर अधिकारी के कहनाय छनि जे एहि परीक्षाके अगिला हफ्ता फेर सं लेल जाएत.

परीक्षा के दौरान बिहारी छात्र सभ के चुनि-चुनि के मारनाय-पिटनाय के गंभीरता सं लैत बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार एहि मामला पर गृह सचिव सं ओहिठाम के गृह सचिव सं बात कs रिपोर्ट देबय लेल कहलखिन्ह.  पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी सेहो रेल मंत्री सं उचित कार्रवाई करय के मांग कएलीह.  राबडी जी ममता बनर्जी से सेहो मांग कएलीह जे बिहारी छात्र सभ के ऊपर भs रहल हमला के देखैत एहिठाम के छत्र सभके बिहारे मे परीक्षा करयबा के व्यवस्था कएल जाए.
Bookmark and Share

1 comment:

  1. It is unfortunate that Biharis' outside Bihar are treated badly.
    I think that such a treatment is not new to Bihar. From Mughal time till today through British time, Biharis were considered fit to be only coolie or labourer who will swallow every insult but still serve the master with full devotion. We are so much conditioned by this century old practice that we have even lost self respect and are unable to rise to challange this injustice.

    This downtroden mentality is clearly seen in our migration from the state. All must have heard that in past two years more than hundred farmers committed suicide in Andhra and Maharastra because they could not repay loans due to crop failure. But did any has statistics about number of such farmers going to Punjab to earn wages? or going to metropolis of Mumbai, Delhi, etc for lifetime migration? These people preferred death over leaving their states. Do we even think of such possibility? This is probably the reason that when hundred Biharis' are beaten it only make one day news item while when these people act, the national govenment is moved to make policy changes like loan waiver. I have not heard any loan waiver for Biharis in the aftermath of Kosi flood.
    We send our children to educational institues in other states. These institute are built by politiciand and industrialists, especially landlords who are parellel to Jamindars in Bihar. Has any politician or landlord in Bihar spent their money for upliftment of Biharis so that Bihar stops importing education from other states?

    I believe that till such time as we seriously think on taking control of our ownself, Biharis will contiunue to be beaten and insulted and we will keep on posting such news on internet, television and other news media without meaning anything.

    Dr. Arabind Jha

    ReplyDelete

अहांक विचार/सुझाव...