नवका- पुरनका लेख सर्च करु...

विवश

NARAD:Hindi Blog Aggregator
मैने
आज भी
देखा है
तुम्हारी आंखों
में
प्यार का सागर...
जो
दिल की बातें
कहने को
व्याकुल रहने पर
भी
खामोश थीं
ना जाने
क्या
कारण है
जो
तुम्हें
विवश कर देता
है
कुछ बोलने से
तुम
इसे कैसे
सह सकोगी

No comments:

Post a Comment

अहांक विचार/सुझाव...