नवका- पुरनका लेख सर्च करु...

आंसू

NARAD:Hindi Blog Aggregator
अभी

तुम गर्व से
हंसकर कहती हो
सभी
तुम्हें देखकर
जीते हैं
गाते हैं
और
मुस्कुराते हैं
पर
मैं चाहता हूं
कि

तुम मुझे देख कर
जीओ
गाओ
और
मुस्कुराओ
और
अगर तुम्हारे

चेहरे पर
मुझे
ये दिखा
तो
मैं
तुम्हे
देखते हुए
मरकर
दिखा दूंगा
तब तुम
अपनी भूल के
कारण
मेरी चिता
पर
आंसू बहाओगी

No comments:

Post a Comment

अहांक विचार/सुझाव...