नवका- पुरनका लेख सर्च करु...

किसी के साथ

क्या मैं अकेला हूं
नहीं
तो फिर साथ कौन है ?
वे
जो मेरे पड़ोसी हैं
या वे
जो मुझे
पेड़ पर चढ़ा
खुद नीचे
जड़ काट देते हैं
या वे तो नहीं
जो
ये जानने के लिए
अपनी सारी फौज
हमारी कुटिया के पास
इसलिए
लगा रखी है कि
कहीं मैं
किसी के साथ
तो नहीं हूं...

No comments:

Post a Comment

अहांक विचार/सुझाव...